संज्ञा किसे कहते हैं? संज्ञा की परिभाषा । हिन्दी व्याकरण

53
संज्ञा किसे कहते हैं?

संज्ञा किसे कहते हैं?

संज्ञा किसे कहते हैं? परिभाषा— संज्ञा का शाब्दिक अर्थ है — सम+ज्ञा अर्थात सही ज्ञान कराने वाला। संज्ञा का दूरा पर्याय है — नाम। ‘वह शब्द जिससे किसी विशेष वस्तु, भाव, प्राणी तथा स्थान आदि का (नाम) ज्ञान होता है। उसे संज्ञा कहते हैं।’ इसका अर्थ वाणीं अथवा पदार्थ के साथ उसके धर्म को प्रकट करना भी है। अत: ‘वस्तु’ शब्द में प्राणी, पदार्थ तथा धर्म सम्मिलित हैं।

संज्ञा भाषा का एक अभिन्न अंग हैं। संज्ञा शब्दों के बिना भाषा अपूर्ण हैं। जब हम कोई बात करते हैं, कहते हैं या पूंछते हैं तो संज्ञा शब्द अवश्य अतो हैं जैसे:—

  • श्याम आजकल जर्मनी में हैं।
  • गोदान प्रेमचन्द का उपन्यास है।
  • गाय एक उपयोगी पशु है।

संज्ञा के भेद

संज्ञा के पॉच भेद होते हैं:— जाति वाचक संज्ञा, व्यक्ति वाचक संज्ञा, भाववाचक संज्ञा, समूहवाचक संज्ञा और द्रव्यवाचक संज्ञा

जातिवाचक संज्ञा

जिस संज्ञा शब्द से किसी जाति के सभी पदार्थों अथवा उसके समूहों का बोध हो उसे जातिवाचक संज्ञा कहते हैं। जैसे मनुष्य, पर्वत, झोपड़ी, नीद, देश, घर, आभूषण इत्यादि।

व्यक्तिवाचक संज्ञा

जो शब्द किसी विशेष व्यक्ति, स्थान, वस्तु तथा प्राणीं आदि का बोध कराते हैं, उन्हे व्यक्तिवाचक संज्ञा कहते हैं। ‘जिस शब्द से किसी विशेष वस्तु या व्यक्ति का ज्ञान हो, उसे व्यक्तिवाचक संज्ञा कहते हैं।’ जैसे श्याम, सुभाष, यमुना, सिन्धु, मथुरा तथा हरिद्वारा आदि। यहां श्याम तथा सुभाष से व्यक्ति, यमुना और सिन्धु से नदी तथा मथुरा और प्रयाग से स्थान आदि का बोध होता है।

भाववाचक संज्ञा

जिन शब्दों से व्यक्ति या वस्तु के भाव, गुण या धर्म, दशा अथवा व्यापार का ज्ञान होता है उसे भाववाचक संज्ञा कहते हैं। जैसे अच्छाई, उदारता, दुष्टता, स्वतंत्रता, बुढ़ापा, बचपन, अनपुशासनहीनता, उग्रता, मिठास आदि।

समूहवाचक संज्ञा

‘जिस संज्ञा से व्यक्ति या वस्तुओं के समूहों का ज्ञान होता है, उसे समूहवाचक संज्ञा कहते हैं।’ जैसे — व्यक्तियों के समूह का नाम समिति, कक्ष, दल, परिषद, आदि। वस्तु— गुच्छा, कुंज, मंडल आदि।

द्रव्यवाचक संज्ञा

जिस संज्ञा शब्द द्वारा नाप—तौल वाली वस्तु का बोध हो, उसे द्रव्यवाचक संज्ञा कहते हैं। जैसे — पानी, चांदी, घी, पीतल, सोना आदि

हिन्दी व्याकरण । संज्ञा । सर्वनाम । विशेषण। क्रिया । क्रियाविशेषण । वाच्य । लिंग । वचन । कारक । काल । उपसर्ग । प्रत्यय । समास । संधि । पुनरूक्ति । शब्द विचार । पर्यायवाची शब्द । अनेक शब्दों के लिये एक शब्द । हिंदी कहावत । हिंदी मुहावरें । अलंकार । छंद । रस । बिजनेस हंट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here