नौसेना (Navy) क्या है? Indian Navy कैसे Join करें

नौसेना (Navy) क्या है?

नौसेना (Navy) क्या है? अगर आप के अंदर जज्बा है देश की सेवा करने का। यदि आप अपने देश की रक्षा और उसके सम्मान के लिये किसी भी चुनौती का सामना कर सकते हैं तो आप नेवी (Navy) ज्वाइन कर एक नौसेना अधिकारी के रूप में भारत वर्ष की सेवा कर सकते हैं। नौसेना (Navy) भारतीय सेना का एक महत्वपूर्ण अंग है। नौ सेना जल मार्ग और समुंद्र से होने वाले आक्रमणों को देश से बचाती है।

हमारे देश में नौसेना अधिकारी बनना अधिकतर युवाओं का सपना रहा है। नौसेना (Navy) की नौकरी में आपको अच्छा वेतन व सरकारी सुविधाऐं तो मिलती ही हैं साथ ही साथ एक Navy Officer को पूरे देश में सम्मान मिलता है। हांलांकि नौसेना (Navy) में जाॅब पाना इतना आसान नही हैं। लाखों लोग हर साल इसके लिये कोशिश करते हैं लेकिन उनमें से केवल 1 हजार लोग ही Navy के लिये सफल हो पाते हैं।

अगर आप भी Navy में भर्ती होना चाहते हो तो यह आर्टिकल आपके लिये ही है। इस आर्टिकल में आप जानोगे कि नौसेना (Navy) क्या है? भारतीय नौसेना (Indian Navy) में कैसे भर्ती हो सकते हैं। Navy में सैलरी और सुविधाऐं क्या-क्या होती हैं।

नौसेना (Navy) क्या है?

हर देश के पास अपनी रक्षा के लिये सेना होती है। भारत के पास भी सेना हैं जिसे हम इंडियन आर्मी के नाम से जानते हैं। इंडियन आर्मी के तीन अंग हैं थल सेना, जल सेना और वायु सेना। जल सेना को ही नौसेना या नेवी (Navy) के नाम से जाना जाता है। नौसेना Indian Army का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। जो कि जलमार्ग और समुंद्र से होने बाले बाहरी आक्रमण से देश की रक्षा करती है। भारतीय नौसेना दुनिया की 5वीं सबसे बड़ी सेना हैं।

भारतीस नौसेना का इतिहास सैकड़ों वर्ष पुराना हैं ये सेना भारतीय सामुद्रिक सीमाओं की रक्षा रकती है। भारतीय नौसेना का गठन 1612 ईं. में ईस्ट इंडिया कंपनी ने किया था। इसका नाम उस समय इंडियन मेरीन था। 1685 ईं में इसका नाम बदलकर बंबई मेरीन कर दिया गया। 8 सितंबर 1934 को भारतीय विधानपरिषद ने भारतीय नौसेना अनुशासन अधिनियम पास किया और इसका नाम राॅयल इंडियन नेवी कर दिया गया। दूसरे विश्व युध्द के समय भारतीय नौसेना का विस्तार हुआ है और अधिकारी तथा सैनिकों की संख्या 2000 से बढ़कर 30 हजार हो गई। इसके अलावा नौसेना के बेड़े को कई आधुनिक जहाज भी मिले।

आजादी के बाद एक तिहाई सेना पाकिस्तान चली गई। कुछ अत्यंत महत्वपूर्ण नौसेनिक संस्था भी पाकिस्तान के हिस्से में चले गये। जिसके कारण भारतीय नौसेना नाम मात्र की रह गई। लेकिन भारत सरकार ने तत्काल नौसेना के विस्तार की योजना बनाई और एक साल के अंदर ही ग्रेट ब्रिटेन से 7030 टन का क्रूजर खरीदा। इसके बाद एक 8 हजार टन का क्रूजर खरीदा गया। सरकार ने नौसेना के बेड़े अत्यन्त आधुनिक जहाज शामिल किये।आजादी के बाद इसका पुनः नामकरण हुआ और इसे भारतीय नौसेना या इंडियन नेवी के नाम से जाना जाने लगा। आज भारतीय नौसेना 55 हजार सैनिकों के साथ विश्व की पांचवी सबसे बड़ी सेना हैं।

यह भी जरूर पढ़ेंः- डीएम कैसे बनें, पूरी जानकारी हिन्दी में

इंडियन नेवी (Indian Navy) में भर्ती होने के लिये योग्तया

  • भारतीय नागरिक होना जरूरी है।
  • भारतीय नौसेना में भर्ती होने के लिये आपको PCM (Physics, Chemistry, Math) विषयों के साथ इंटरमीडियेट पास होना चाहिये। इसमें अंग्रेजी में 50% और भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान में 70-70 % Marks होने चाहिये। कुछ पदों पर स्नातक के बाद भर्ती होती है।
  • भारतीय नौसेना में भर्ती के लिये आपकी उम्र कम से कम 18 साल और अधिकतम 21 साल होनी चाहिये। (अलग अलग पदों के लिये अलग-अलग आयु सीमा होती है।)
  • पुरूषों की लंबाई 157 सेंटीमीटर, महिलाओं की लंबाई 152 सेंटीमीटर होना जरूरी है। वहीं छाती का विस्तार 5 सेंटीमीटर होना चाहिये। (जैसे यदि आपकी छाती की चैड़ाई 75 सेंटीमीटर है तो 80 सेंटीमीटर न्यूनतम होना चाहिए)
  • आवेदक की Eyesight 6/6 होनी चाहिये।
  • हड्डियों से संबधित कोई रोग नही होना चाहिये।
  • आवेदन मानसिक एवं शारीरिक रूप से स्वस्थ्य होना चाहिये।

नौसेना (Navy) कैसे ज्वाइन करें?

इंडियन नेवी की भर्ती के लिये संघ लोकसेवा आयोग (UPSC) साल में दो बार एनडीए एक्जाम आयोजित करती है। जिसकी जानकारी UPSC की अधिकारिक वेबसाइट या इंडियन नेवी की अधिकारिक वेबसाइट www.joinindiannavy.gov.in पर देती है। नौसेना भर्ती (Navy) के लिये परीक्षा लेती है। यह परीक्षा तीन चरणों में होती है – 1. लिखित परीक्षा, 2. फिजिकल फिटनेस, 3. मेड़ीकल

लिखित परीक्षा में गणित, सामान्य ज्ञान, अंग्रेजी, विज्ञान और रीजनिंग के प्रश्न पूंछे जाते हैं। परीक्षा का समय 1 घंटे का होता है और हर गलत जबाब पर 0.25 नंबर की Nagetive Marking होती है। यानी अगर आपने 1 सबाल का जबाब गलत दिया तो आपका एक चैथाई अंक काट लिया जाएगा। लिखित परीक्षा में चयनित अभ्यर्थियों का फिजीकल फिटनेस टेस्ट होता है। जिसके बाद मेड़ीकल होता है।

तीनों चरणों की परीक्षा में पास हुये अभ्यर्थी का Service Selection Board (SSB) द्वारा इंटरव्यू लिया जाता है। जिसमें अभ्यर्थी की बुध्दि और व्यक्तित्व का परीक्षण किया जाता है। इंटरव्यू में सफल होने के बाद अभ्यर्थियों को कुछ दिनों के लिये प्रशिक्षण (Training) के लिये भेज दिया जाता है। ट्रैनिंग के बाद अभ्यर्थी को उनकी रैंक अलाॅट की जाती है और वे पूर्ण रूप से नौसेना अधिकारी बन जाते हैं।

Indian Navy में सैलरी

भारतीय नौसेना में सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को आकर्षक सैलरी मिलती है। ट्रैनिंग के समय 12000 से 14000 रूपये प्रतिमाह सैलरी मिलती है। ट्रैनिंग के बाद ये यह सैलरी 25 हजार से 50 हजार रूपये तक हो जाती है। सर्विस में समय और प्रमोशन के आधार पर यह सैलरी बढ़ती जाती है।

भारतीय नौसेना (Navy) में पद

पदसमकक्ष NATO कोड
एडमिरल आफ द फ्लीटOF-10
एडमिरलOF-9
वाइस एडमिरलOF-8
रियर एडमिरलOF-7
कमोडोरOF-6
कैप्टनOF-5
कमांडरOF-4
लेफ्टिनेट कमांडरOF-3
लेफ्टिनेटOF-2
सब लेफ्टिनेटOF-1

हमें उम्मीद है कि नौसेना (Navy) क्या है? इंडियन नेवी में कैसे भर्ती हों? इस संबध में पूरी जानकारी आपको इस आर्टिकल में मिल गई होगी। अगर आपको हमारा आर्टिकल अच्छा लगा तो हमें कमेंट के माध्यम से जरूर बताइये। अगर इंडियन नेवी से संबधित कोई सवाल आपके मन में है तो कमेंट बाॅक्स में पूंछ सकते हैं। हम आपके सवाल का जबाब जरूर देंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here