Sad Love Shayari, Best Sad Status, New Sad Shayari, Kanhiya kamboj

33

सारी रात उसे छूने से डरता रहा।
मैं बेवश, बैचैन पर करवटें बदलता रहा।
और हाथ तो मेरा ही था उसके हाथ में
बस बात यह है कि जिक्र किसी और का चलता रहा।

Saari Raat use chhoone se darta raha
Mai bebas bechain, par karwate badlta raha
aur hath to mera hi tha uske hath me
bs baat ye hai ki zikr kisi aur ka chalta raha

मेरे घर में आते ही ​बेफिजूल की बातें बना रही है।
हर बात से बेखबर हूं, न जाने किस शख्स से पहचान करवा रही है।
किसी डर में हैं शायद
न जाने क्यों बार—बार बिस्तर से सलवट हटा रही है।

Mere Ghar me aate hi befizul ki baate bana rahi hai
Har baat se bekhabar hun, N jane kis shaksh se pehchan karwa rahi hai
kisi dar me hai shayad
na jane kyun baar baar bistar se salvat hata rahi hai

कि तेरी हर हकीकत से रूबरू हो गया हूं मैं
ये पर्दा किस बात का कर रही है।
एक मैं हूॅं, आखों से आंसू नही रूक रहे।
एक तू है कि हंस के बात कर रही है।
और लहजे में माफी में, आंखों में शर्म तक नहीं।
ये एक्टिंग का कोर्स तू लाजबाब कर रही है।

ki teri har hakeekat se rubroo ho gya hun mai
ye parda ksi baat ka kar rhi ho
ek main hun, aankho se ansu nhi ruk rhe
ek tu hai hans ke baat kar rahi hai

जब पुकारना हो मुझे, मेरा नाम भूल जाता है।
उसे इश्क तो आता है पर करना भूल जाता है।
और उसे कह दो, यू मुस्करा कर न देखे मुझे
ये दिल पागल है, धड़कना भूल जाता है।

Jab Pukarna ho mujhe, mera naam bhool jata hai
use ishq yaad hai, par karna bhool jata hai
aur use keh do, yun muskra kr n dekhe mujhe
ye dil pagal hai, dhadhkna bhool jata hai

तूने रिश्ता तोड़ा है मजबूरी है मैं मानता हूूं
मुझे तो निभाने दे, मैं तुझसे भला क्या मांगता हूं।
और दर्द में देखकर तू मुझे मुस्करा रही है
और मैं कितना पागल हूं, तू हंसती रहे यही दुआ मांगता हूं।

Tuney rishta toda hai majboori hai mai manta hun
mujhe to nibhane de, mai tujhse bhala kya mangta hun
aur dard mai dekhkar tu mujhe muskra rahi hai
aur mai kitna pagal hun, tu hansti rahe yahi dua maangta hun

खुद से ही खुद को बदनाम करते हैं
चलो उनका काम आसान करते हैं
चुभने लगीं हैं ये धड़कनों की आहटें मुझको
चलों इन्हे रोकने का इंतजाम करते हैं

khud se hi khud ko badnaam karte hai
chalon unka kaam aasan karte hai
chubhne lagin hai ye dhadhkano ki aahante mujhe
chalon inhe rokne ka kaam karte hai

करके यूं बेइंतिहा जुल्म मुझ पर,
कहती चलो आज तुम्हे माफ करते हैं
और धूल जमीं थी खुद के चेहरे पर
कहती चलो, आईना साफ करते हैं

krke yun hi beintiha julm mujh par
kehti chalo aaj tumhe maaf karte hai
aur dhool jami thi khud ke chehre par
kehti chalo, aaina saaf karte hai

वक्त जाया न कर मेरे किरदार को पहचानने में
तू खुद एक कहानी बन जाऐगा मेरी हकीकत जानने में
और चल दिये वेपरवाह गहराई मेरे दर्द की
इतना गहरा हूं कि जमाना निकल जाऐगा मेरी गहराई नापने में

waqt jaaya na kar mere kirdar ko pehchanne me
tu khud ek kahani ban jayega meri hakeekat jaanne me
aur chal diye beparwah gehrai mere dard ki
itna gehra hun ki jamana nikal jayega meri gehrai naapne me

कि गिरा लें मुझे अपनी नजरों से कितना ही
झुकने पर तो मजबूर मैं तुझे भी कर दूंगा
और एक बार बदनाम करके तो देख मुझे महफिल में
कसम से शहर में मशहूर मैं तुझे भी कर दूंगा।

ki gira le mujhe apni najron se kitna hi
jhukne par mai majboor tujhe bhi kar dunga
aur ek baar badnaam karke to dekh mujhe mehfil me
kasam se shahar me mashoor mai tujhe bhi kar dunga

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here